स्वच्छता:-Madhu Thakur

 स्वच्छता

वो भले ही ज़्यादा पढ़ न सका हो,
दुनिया भले ही उसे अनपढ़ गँवार
कहती हो
पर मेरी नज़रों में उससे ज़्यादा कोई
पढ़ा लिखा इंसान नहीं है
जो हमारे देश से गंदगी नामक शत्रु
भगाता हो।

और तुम दुनिया वाले उस सफाई
कर्मचारी पर हँसी ठिठोले करते हो
ज़रा ये तो बताओ तुम कौनसा देश
के लिए अच्छा काम करते हो।

ख़ुद के घर को मंदिर बनाते हो
और सड़कों पर पान गुटका थूँका
करते हो
ज़रा ये बताओ तुम कौनसा देश
के लिए अच्छा काम करते हो।

तुम देश की रक्षा की बात करते हो,
चंद्रमा पर जाने की बात करते हो,
अरे! सड़क पर डला छिल्का तो
उठा लो यदि देश के बेटा- बेटी
कहलाते हो।

By Madhu Thakur

FOLLOW ON INSTAGRAM:-MADHU THAKUR

Comments

Free Now