तुझ तक पहुँचे उस मंज़िल का नाम क्या है Byमनु शर्मा || Tere Ishq Mai Yara || “तुझ तक पहुँचे जो राह मैं हर उस || ग़ज़ल/ग़ज़लें साहिर लुधियानवी || Hindi Kavita#writers




तुझ तक पहुँचे उस मंज़िल का नाम क्या है


तुझ तक पहुँचे उस मंज़िल का नाम क्या है,

मुझे बता तेरे शहर में आने का दाम क्या है।


तुझसे प्यार किया है बेशुमार हमने,

हमारी मोहब्बत का आखरी परिणाम क्या है।


सागर तले मिलता है वो मोती सच्चा,

बिकता हुआ वो मोती सरेआम क्या है।


मैं आऊंगा तुझसे मिलने जल्द तेरे पास,

बता हमारे मिलने का इन्तेजाम क्या है।


उम्र भर तारों से बात करना मंज़ूर है मुझे,

तो सूरज का इस दुनिया में काम क्या है। 


यूँ तो नशा दे देती है हर बोतल खासा,,

जो तेरी आँखों से ना पिया वो जाम क्या है। 


भरी हुई वो यादें तमाम क्या है,

मुझे बता तेरे शहर में आने का दाम क्या है।


By - मनु शर्मा

    Follow on Instagram :-मनु शर्मा 

Comments

Free Now