सुनों कविताओं By नमिता गुप्ता || Suno! Meri Kavita Mat Padhna! - सुनो! मेरी || The Most Viral Hindi Poetry - ये हैं हिन्दी की ...|| Suno Kavita - Google || Hindi Kavita#writers




सुनों कविताओं


 .. जबकि तुमने बचाए रखा मनुष्यता को !!


सुनों कविताओं.. 

जबकि

हिम्मत बंधाने की बजाय

दहशतों के कारनामे गिना रहे थे लोग ,

तुमने प्रेम से सहलाये कंधे

मनुष्यता के ,

तुमने उखडती सांसों को बचाया

सांत्वनाओं के ऑक्सीजन से !!


जबकि

हम बंद रहे

अपने ही घर में ,

तुमने खुलेआम

ज़ारी रखी

सभी से वार्तालापें मन की

..और नहीं डगमगाने दिया

भीतर का सकारात्मक रुझान

किसी भी कीमत पर !!


सुनों कविताओं..

जबकि

हर कहीं गिनीं जा रही हैं

सिर्फ संख्याएं ही ,

तुमने कहीं-न-कहीं बचाए रखा

मनुष्यता को

सही से !!

विशेष- प्रस्तुत कविता में "कविताओं" से मेरा तात्पर्य डाक्टर या उन लोगों से है जिन्होंने इस संक्रमण के दौर में भी इंसानियत को बनाए रखा ।

 

By - नमिता गुप्ता "मनसी"

 Follow on Instagram :-  नमिता गुप्ता "मनसी"



Comments

Free Now